श्याम पदार्थ : इन्फ़ोग्राफ़िक

विज्ञान विश्व

श्याम ऊर्जा(डार्क एनर्जी) के पश्चात ब्रह्मांड का दूसरा सबसे बड़ा घटक श्याम पदार्थ(डार्क मैटर) है। इसे प्रत्यक्ष रूप से देखा नही जा सकता है लेकिन इसके प्रभावो को इसके द्वारा उत्पन्न गुरुत्वाकर्षण द्वारा ब्रह्मांड के अन्य भागो से प्रतिक्रिया के रूप मे देखा जा सकता है। तथ्य यह है कि हम यह कम जानते है कि यह है क्या, लेकिन यह अधिक जानते है कि यह क्या नही है? श्याम ऊर्जा(डार्क एनर्जी) के पश्चात ब्रह्मांड का दूसरा सबसे बड़ा घटक श्याम पदार्थ(डार्क मैटर) है। इसे प्रत्यक्ष रूप से देखा नही जा सकता है लेकिन इसके प्रभावो को इसके द्वारा उत्पन्न गुरुत्वाकर्षण द्वारा ब्रह्मांड के अन्य भागो से प्रतिक्रिया के रूप मे देखा जा सकता है। तथ्य यह है कि हम यह कम जानते है कि यह है क्या, लेकिन यह अधिक जानते है कि यह क्या नही है?

यह श्याम(Dark) है। श्याम पदार्थ को प्रत्यक्ष देखा नही जा सकता। यह प्रकाश उत्सर्जित नही करता है, इसलिये यह तारा या ग्रह नही हो सकता है। यह श्याम(Dark) है। श्याम पदार्थ को प्रत्यक्ष देखा नही जा सकता। यह प्रकाश उत्सर्जित नही करता है, इसलिये यह तारा या ग्रह नही हो सकता है।

इसका पता नही लगाया जा सकता है। यह अत्याधिक घना तथा छोटा है जो विकिरण का अवशोषण या उत्सर्जन नही करता है जिससे चित्र लेने की वर्तमान तकनीकें इसका पता नही लगा सकती है। इसका पता नही लगाया जा सकता है। यह अत्याधिक घना तथा छोटा है जो विकिरण का अवशोषण या उत्सर्जन नही करता है जिससे चित्र लेने की वर्तमान तकनीकें इसका पता नही लगा सकती है।

यह साधारण पदार्थ का बादल नही है। यदि श्याम पदार्थ सामान्य पदार्थ कण(बार्यान) से बना होता तो वह साधारण प्रकाश के परावर्तन से दिखाई दे देता, लेकिन वह दिखाई नही दे रहा है अर्थात बार्यान नही है। यह साधारण पदार्थ का बादल नही है। यदि श्याम पदार्थ सामान्य पदार्थ कण(बार्यान) से बना होता तो वह साधारण प्रकाश के…

View original post 501 more words

Advertisements