पदार्थ की चतुर्थ अवस्था : प्लाज्मा

विज्ञान विश्व

प्लाज्माआप पदार्थे की तीन अवस्थाओं को जानते ही होंगे, ये है ठोस, द्रव तथा गैस। लेकिन इनके अतिरिक्त पदार्थ एक और अवस्था मे पाया जाता है जिसे प्लाज्मा कहते है।

प्लाज्मा (Plasma): भौतिक और रसायनशास्त्र में प्लाज्मा आंशिक रूप से आयनीकृत एक गैस है जिसमे इलेक्ट्रान का एक निश्चित अनुपात, किसी परमाणु या अणु के साथ बन्ध होने के वजाय स्वतंत्र हो जाता है।प्लाज्मा में धनावेश और ऋणावेश की स्वतंत्र रूप से गमन करने की क्षमता प्लाज्मा को विद्युत चालक बना देती है।प्लाज्मा के गुण ठोस,द्रव्य और गैस के गुण से काफी विपरीत होते है इसलिए इसे पदार्थ की चौथी अवस्था माना जाता है।प्लाज्मा आमतौर पर एक गैस के बादल का रूप ले लेता है गैस की तरह प्लाज्मा का कोई निश्चित आकार या निश्चित आयतन नही होता है।गैस के विपरीत किसी चुम्बकीय क्षेत्र के प्रभाव में यह एक फिलामेंट,पुंज या दोहरी परत जैसी संरचनाओं का निर्माण करता है।प्लाज्मा की…

View original post 782 more words

Advertisements