विलियम हर्शेल : युरेनस के खोजकर्ता

विज्ञान विश्व

392px-william_herschel01फ़्रेडरिक विलियम हरशॅल(German: Friedrich Wilhelm Herschel) जर्मन-मूल के अंग्रेज खगोलविद् और संगीतकार थे । उन्होंने 1770 के दशक में खगोल विज्ञान को अपनाया, अपना स्वयं का दूरबीन व दर्पण बनाया, और यूरेनस ग्रह की खोज के लिए 1781 में प्रसिद्धि पाई । उन्होंने यूरेनस (1787) और शनि (1789) के दो-दो उपग्रहों को भी खोजा । अनेक युग्म-तारों(binary star), नीहारिकाओं(Neabule) और तारा समूहों(Star Cluster) को अवलोकित और सूचीबद्ध किया । 1801 में पेरिस का दौरा कर लाप्लास (Laplace)और नेपोलियन बोनापार्ट से मुलाकात की ।

1805 ई. में ब्रिटेन के खगोलज्ञ हर्शेल ने दूरबीन की सहायता से अंतरिक्ष का अध्ययन किया तो ज्ञात हुआ कि ब्रह्मांड मात्र सौरमण्डल तक ही सीमित नहीं है। सौरमण्डल आकाशगंगा का एक अंश मात्र है।

1816 में उन्हें नाइट की उपाधि प्रदान की गई । 1822 में उनकी मृत्यु हुई। उनके कार्य को उनके ही इकलौते पुत्र जॉन फ्रेडरिक विलियम हरशॅल ने कायम रखा ।

संक्षिप्त जीवन परिचय

View original post 969 more words

Advertisements