प्रतिपदार्थ(Antimatter) से ऊर्जा

विज्ञान विश्व


प्रतिपदार्थ(Antimatter) से ऊर्जा के निर्माण का सिद्धांत अत्यंत सरल है।

पदार्थ(matter) : साधारण पदार्थ जो हर जगह है। नाभिक मे धनात्मक प्रोटान और उदासीन न्युट्रान, कक्षा मे ऋणात्मक इलेक्ट्रान से निर्मित।

प्रतिपदार्थ(Antimatter) : इसके गुणधर्म पदार्थ के जैसे ही है लेकिन इसका निर्माण करने वाले कणो का आवेश पदार्थ का निर्माण करने वाले कणो से विपरीत होता है। नाभिक मे ऋणात्मक एंटीप्रोटान और उदासीन एंटीन्युट्रान, कक्षा मे ऋणात्मक धनात्मक पाजीट्रान से निर्मित।

antimatter-energy01

जब पदार्थ और प्रतिपदार्थ टकराते है तब वे एक दूसरे को विनष्ट करते हुये ऊर्जा मे परिवर्तित हो जाते है। यदि इस ऊर्जा का प्रयोग किया जाये तो यह ऊर्जा स्रोत किसी भी अन्य ऊर्जा स्रोत से अधिक सक्षम और बेहतर होगा।

antimatter-energy02

प्रतिपदार्थ का प्रयोग करने वाले ऊर्जा संयत्र क्यों नही है ?

इसके पीछे तीन समस्याये है :

1. प्रतिपदार्थ का निर्माण अथवा उसे जमा करना अत्यंत कठीन है।

प्रतिपदार्थ को कण त्वरको(particle accelerators) मे अत्यंत अल्प मात्रा…

View original post 176 more words

Advertisements