विपरीत दिशा मे परिक्रमा करता विचित्र ग्रह

अंतरिक्ष

WASP17 तारे की परिक्रमा मे WASP17b ग्रह (कल्पना)

वैज्ञानिको ने हाल मे वृश्चिक तारामंडल के एक तारे WASP-17 की परिक्रमा करते हुये ग्रह WASP-17b के बार मे एक विचित्र तथ्य का पता चला है। यह ग्रह अपने तारे की विपरित दिशा से परिक्रमा कर रहा है।

यह ग्रह एक गैस महाकाय है और पृथ्वी से 1000 प्रकाशवर्ष दूर है। 2009 मे WASP17b ग्रह जब अपने तारे और पृथ्वी के मध्य आया था जिससे इस ग्रह के द्वारा उत्पन्न ग्रहण के फलस्वरूप इसके मातृ तारे के प्रकाश मे कमी आयी थी। मातृ तारे के प्रकाश मे आयी इस कमी से इस ग्रह की खोज हुयी थी। WASP17b का द्रव्यमान बृहस्पति से आधा है लेकिन इसका व्यास बृहस्पति से दुगुणा है अर्थात इसका घनत्व काफी कम है। यह ग्रह अपने मातृ तारे से सिर्फ ७० लाख किमी दूर है अर्थात बुध से सूर्य की दूरी का आंठ गूणा कम ! यह अपने मातृ तारे की परिक्रमा केवल 3.7 दिन मे…

View original post 197 more words