वायेजर १ : अनजान राहो पर यात्री

अंतरिक्ष

वायेजर १ अंतरिक्ष शोध यान एक ८१५ किग्रा वजन का मानव रहित यान है जिसे हमारे सौर मंडल और उसके बाहर की खोज के के लिये ५ सितंबर १९७७ को प्रक्षेपित किया गया था। यह अभी भी(मार्च २००७) कार्य कर रहा है। यह नासा का सबसे लम्बा अभियान है। इस यान ने गुरू और शनि की यात्रा की है, यह यान इन महाकाय ग्रहो के चन्द्रमा की तस्वीरे भेजने वाला पहला शोध यान है।
वायेजर १ मानव निर्मित सबसे दूरी पर स्थित वस्तू है और यह पृथ्वी और सूर्य दोनो से दूर अंनत अंतरिक्ष की गहराईयो मे अनसुलझे सत्य की खोज मे गतिशील है। न्यु हारीजोंस शोध यान जो इसके बाद छोड़ा गया था, वायेजर १ की तुलना मे कम गति से चल रहा है इसलिये वह कभी भी वायेजर १ को पिछे नही छोड़ पायेगा।

वायेजर १ यान


१२ अगस्त २००६ के दिन वायेजर सूर्य से लगभग १४.९६ x १० ९ किमी…

View original post 985 more words