एन जी सी ५५८४: हब्बल स्थिरांक की गणना

अंतरिक्ष

एन जी सी ५५८४

खूबसूरत आकाशगंगा एन जी सी ५५८४ यह ५०,००० प्रकाशवर्ष चौडी़ है और पृथ्वी से ७२० करोड़ प्रकाशवर्ष दूर कन्या नक्षत्र मे स्थित है। इस महाकाय आकाशगंगा की पेंचदार बांहो मे ढेर सारे नये नवजवान तारे तथा धूल से भरी गलीयां है। यह आकाशगंगा पृथ्वी की ओर से स्पष्ट दिखायी देने वाली एक और खूबसूरत आकाशगंगा ही नही है। इसमे लगभग २५० सेफीड चर तारे(Cepheid Variable Star) है तथा हाल ही मे इसमे एक Ia प्रकार(Type Ia) का सुपरनोवा विस्फोट हुआ है।

सेफीड तारे अपने स्थायी एक समान चमक तथा स्थायी प्रकाश स्पंदन(Light Pulse) के लीये जाने जाते है, इस विशेष गुणधर्म से उन्हे ब्रह्मांड मे दूरीयों की गणनाओ के लिए मानक ज्योति (Standard Candle) के रूप मे उपयोग किया जाता है।

एन जी सी ५५८४ हब्बल स्थिरांक की नयी गणना के लिये चूनी गयी आठ आकाशगंगाओ मे से एक है। इस गणना के लिए आवश्यक निरिक्षण हब्बल दूरबीन द्वारा किया जा रहा…

View original post 28 more words