रक्तविकार और ज्योतिष-वास्तु का सम्बन्ध (थेलेसीमिया और ज्योतिष-वास्तु का सम्बन्ध )—- थेलेसीमिया और सावधानियां —

"विनायक वास्तु टाईम्स"

रक्तविकार और ज्योतिष-वास्तु का सम्बन्ध (थेलेसीमिया और ज्योतिष-वास्तु का सम्बन्ध )—-
थेलेसीमिया और सावधानियां —

थैलेसीमिया एक आनुवांशिक रक्त विकार है। इस रोग में रोगी के शरीर में हीमोग्लोबिन सामान्य स्तर से कम हो जाता है। गौरतलब है कि शरीर में ऑक्सीजन का सुचारु रूप से सचार करने के लिए हीमोग्लोबिन की जरूरत होती है। हँसने-खेलने और मस्ती करने की उम्र में बच्चों को लगातार अस्पतालों के, ब्लड बैंक के चक्कर काटने पड़ें तो सोचिए उनका और उनके परिजनों का क्या हाल होगा! सूखता चेहरा, लगातार बीमार रहना, वजन ना ब़ढ़ना और इसी तरह के कई लक्षण बच्चों में थेलेसीमिया रोग होने पर दिखाई देते हैं। माता-पिता से अनुवांशिकता के तौर पर मिलने वाली इस बीमारी की विडंबना है कि इसके कारणों का पता लगाकर इससे बचा नहीं जा सकता।

लाल रक्त कोशिकाओं की विकृति रक्त की लाल कोशिकाओं में विकृति आने के कारण थैलेसीमिया होता है। यह रोग प्रायः…

View original post 4,580 more words